पेट पर आ गई है सूजन तो नजरअंदाज ना करें यह 4 बातें हो सकता है गंभीर रोग

0

शरीर के किसी भाग का अस्थायी रूप से (transient) बढ़ जाना आयुर्विज्ञान में फुल्लन (स्वेलिंग) कहा जाता है। हिन्दी में इसे उत्सेध, फूलना और सूजन भी कहते हैं। ट्यूमर भी इसमें सम्मिलित है। सूजन, प्रदाह के पाँच लक्षणों में से एक है। (प्रदाह के अन्य लक्षण हैं – दर्द, गर्मी, लालिमा, कार्य का ह्रास)
यह पूरे शरीर में हो सकती है, या एक विशिष्ट भाग या अंग प्रभावित हो सकता है|
एक शरीर का अंग चोट, संक्रमण, या रोग के जवाब में और साथ ही एक अंतर्निहित गांठ की वजह से, प्रफुल्लित हो सकता है|
कभी-कभी किसी समस्या के चलते या किसी रोग की वजह से हमारे शरीर के किसी अंग पर सूजन आ जाती है, जिसकी वजह से हम उसे हल्के में लेते हैं और नजरअंदाज कर देते हैं, लेकिन यदि यह समस्या पेट पर हो तो इसे भूल कर भी नजरअंदाज ना करें, क्योंकि पेट में पर होने वाली सूजन बहुत कम होती है, यदि पेट पर कभी सूजन होती है तो जरूर पेट में कोई बड़ी समस्या है जिसकी वजह से पेट पर सूजन है, इसलिए आज के इस पोस्ट में हम आपको पांच ऐसी बातें बताने वाले हैं जिन जानना बेहद जरूरी है|
1.आंतों की समस्या
यदि पेट फूलने के साथ-साथ कठोर हो गया है और जी मिचलाना, उल्टी, कब्ज जैसी समस्या हो रही है तो यह आंतों की गड़बड़ी या फिर आंतों में ट्यूमर के कारण हो सकता है|
2.लीवर की समस्या
लिवर खराब होने के कारण पेट पर सूजन आ जाती है जिसकी वजह से अक्सर पेट फूल जाता है, यह समस्या अत्यधिक एल्कोहल का सेवन, हैपेटाइटिस, दवाइयां या फिर लीवर कैंसर के परिणाम स्वरुप ऐसा हो सकता है|
3.अग्नाशय का कैंसर
अग्नाशय अर्थात पैंक्रियास ग्रंथि पर कैंसर, पेट पर सूजन के साथ-साथ पीलिया के लक्षण को भी दर्शाता है, यह काफी खतरनाक हो सकता है और वजन में भी लगातार कमी होती है, इसमें भूख कम लगती है और पेट के ऊपरी हिस्से में दर्द महसूस होता है|
4.गर्भाशय का कैंसर
कुछ मामलों में अक्सर पेट का फुला रहना या फिर भरा रहना गर्भाशय के कैंसर के लक्षण को भी दर्शाता है, इस स्थिति में निचले हिस्से में दर्द पहले से अधिक भराव महसूस होता है, अक्सर 50 से अधिक उम्र की स्त्रियों में यह गंभीर स्थिति हो सकती है|

Leave A Reply

Your email address will not be published.