हाथ पैर की मांसपेशियों में होने वाली सूजन और दर्द से पाएं इस तरह छुटकारा

0

शरीर के किसी भाग का अस्थायी रूप से (transient) बढ़ जाना आयुर्विज्ञान में फुल्लन (स्वेलिंग) कहा जाता है। हिन्दी में इसे उत्सेध, फूलना और सूजन भी कहते हैं। ट्यूमर भी इसमें सम्मिलित है। सूजन, प्रदाह के पाँच लक्षणों में से एक है। (प्रदाह के अन्य लक्षण हैं – दर्द, गर्मी, लालिमा, कार्य का ह्रास)
यह पूरे शरीर में हो सकती है, या एक विशिष्ट भाग या अंग प्रभावित हो सकता है|
एक शरीर का अंग चोट, संक्रमण, या रोग के जवाब में और साथ ही एक अंतर्निहित गांठ की वजह से, प्रफुल्लित हो सकता है|
हाथ पैरों में अक्सर सूजन आ जाता है जिसकी वजह से दर्द होता है, अक्सर मांसपेशी में सूजन खेलते समय चोट लगना या फिर दुर्घटना की वजह से, चिंता, तनाव आदि कारणों की वजह से मांसपेशियों में अक्सर सूजन या दर्द की शिकायत रहती है, अक्सर हमारे संतुलित आहार की वजह से भी या कीड़े काटने की वजह से भी सूजन हो सकती है, यदि हमारे शरीर के सभी अंगों को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन पूर्ति होती रहे तो दर्द या सूजन नहीं होगी, यदि आप अधिक मात्रा में पानी पीते हैं तो इससे ऑक्सीजन की मात्रा शरीर के सभी अंगों तक पर्याप्त मात्रा में पहुंचती है, इसके अलावा सूजन या दर्द से राहत पाने के लिए और भी कई उपाय अपनाए जा सकते हैं|
1.मालिश
यदि तेल की मालिश दर्द या सूजन वाले भाग पर करते हैं तो रक्त का परिसंचरण तेजी से बढ़ता है, जिसकी वजह से मांसपेशियों में गर्माहट मिलती है और बाजार में कई प्रकार के तेल मौजूद है जैसे कि पाइन, अदरक, पिपरमें आदि से मालिश कर सकते हैं|
2.लाल मिर्च का प्रयोग
लाल मिर्च के अंदर कैप्सैसिन नामक पदार्थ होता है जो आर्थराइटिस, जोड़ों और मांसपेशियों में होने वाले दर्द को आराम पहुंचाता है, दर्द से राहत पाने के लिए आप जैतून के तेल में आधा टेबल स्पून लाल मिर्च मिलाकर गर्म कर ले और प्रभावित भाग पर लगाएं 2 मिनट के बाद इसे धो ले|
3.नमक का पानी
हाथ पैरों में सूजन और दर्द से राहत पाने के लिए नमक का पानी बेहद कारगर है, इसके लिए आप एक बड़े बर्तन में गुनगुना पानी कर लें और उसमें दो बड़े चम्मच नमक डाल लें, फिर इस पानी से हाथ पैरों की सिकाई करें सूजन पहुंच जल्दी कम हो जाएगा|

Leave A Reply

Your email address will not be published.